नाश्ते में मीठा खाना है आपके लिए होता है लाभकारी

402
healthy breakfast foods
image credit: cravebits.com

बचपन से लेकर आज तक हमने यही सीखा है की मीठे व्यंजन को खाने के बाद खाया जाता है। मीठे को वजन बढ़ाने वाला तथा बीमारी पैदा करने वाला भी माना जाता है इसलिए इसे कम मात्रा में खाए जाने की सलाह दी जाती है। पर हमारा शरीर शक्कर को इस तरह नहीं देखता।

शक्कर शरीर को तुरंत उर्जा देने का एक ज़रिया है। यही वजह है की खाने के बाद गुलाब जामुन या रस मलाई आपकी जीभ की पसंद हो सकती है लेकिन सुबह की पहली खुराक में मीठा आपके शरीर की पसंद है। सुबह उठकर चाय या कॉफ़ी पीने की ललक का एक कारण यह भी है।

आयुर्वेद भी सुबह की पहली खुराक में मीठा शामिल करने का सुझाव देता है। इस समय आपको प्राकृतिक शक्कर लेनी चाहिए जो कम मीठी हो या जिसका ग्लाईसेमिक इंडेक्स कम हो। इस तरह आपके रक्त में तेज़ी से शक्कर नहीं बढती पर शरीर को उर्जा मिलनी शुरू हो जाती है। 

 

नाश्ते में शक्कर लेने से क्या लाभ है?

नाश्ते में शक्कर लेने का मुख्य कारण रक्त में धीमी गति से ग्लूकोस का स्तर बढना है। इस तरह आपका शरीर पुरे दिन उर्जा से भरा महसूस कर सकता है।

सुबह उठने पर दिमाग को भी भरपूर उर्जा नहीं मिल रही होती है। ऐसे में इसे शक्कर और कार्ब्स की ज़रूरत होती है। आप शायद यह नहीं जानते होंगे की आपका दिमाग शरीर के किसी भी और अंग की तुलना में कई गुना ज्यादा शक्कर की खपत करता है। ऐसे में प्राकृतिक शक्कर की छोटी-छोटी खुराक न लेने से आपकी मनोदशा पर असर हो सकता है।

रात भर भूखे रहना एक तरह से आधे दिन के उपवास की तरह है। इसे खत्म करने के लिए मीठा नाश्ता सबसे उत्तम विकल्प है।

पर्याप्त उर्जा देने के अलावा शरीर में शक्कर रहना आपको गलत फैसले लेने से रोकेगा। देखा जाता है की अगर आपके शरीर में शक्कर के स्तर कम हों तो आप सचेत होकर फैसले नहीं लेते और आगे जाकर पछताते हैं। ऐसी सम्भावना को शक्कर खत्म कर सकती है।

 

नाश्ते में क्या लें?

सुबह उठकर पांच बादाम, एक अखरोट, एक खजूर और चार किशमिश लें। मेवों का यह मेल आपके शरीर को उर्जा से भरपूर रखेगा तथा विटामिन की कमी, मधुमेह आदि से बचाएगा। आप चाहें तो सुबह नारियल पानी, दलीय, शहद या नारियल भी ले सकते हैं।

ध्यान रखें की सुबह का नाश्ता इतनी मात्रा में होना चाहिए की आपका पेट आधा या तीन चौथाई भर जाए।