बकासन योग – Crane/Crow Pose

1421
crane-pose-bakasana-yoga
image credits: yoga journal

सारस कई सभ्यताओं में ख़ुशी, लंबी उम्र और यौवन का चिन्ह माना जाता हैं। इन तीनो ही गुणों को एक साथ बुन कर बना हैं बकासन (crane pose )। इस आसन के अभ्यास से आप एक युवा की तरह विश्वास पाएंगे , इसमें स्थिर रहने से आप संतुलन पाएंगे, और जब आप इस अवस्था में सहज हो जाए तो आप स्वयं को हवा की तरह सहज और उमंग से परिपूर्ण योगी में ढलता पाएंगे।

 

बकासन में भुजाओं को सीधा रख कर घुटनो को कांखों से लगाया जाता हैं तथा कूल्हों को हवा में उठाया जाता हैं। इस आसन के लिए भुजाओ और पेट की मासपेशियां को मज़बूत होना जरुरी हैं। इसलिए बकासन के पहले कुछ शुरुआती आसन सुझाये जाते हैं।

 

मालासन – मालासन योग (Garland Pose)

मालासन से शुरुआत की जाती हैं। ज़मीं पर सीधे खड़े हो जाएं। धीरे-धीरे अपने घुटनो को मोड़िये और उकड़ू बैठ जाइये। अपने घुटनो को दूर करिए और धड़ को पैरों के बीच छोड़िये। अब जितना हो सके आगे की ओर झुकें। यह आसान आपके नितम्ब ,जांघों और टखनों को लचीला बनाता हैं। इस आसन में 5 – 10 श्वास चक्रों तक स्थिर रहें।

 

काकासन

मलासन में अपने पैरों को कूल्हों जितना दूर रखें। हाथ से पंजो को कन्धों जितनी दुरी पर ज़मीन पर रखें, उँगलियों को फैलाये। एड़ियों का ज़मीन पर टिकना ज़रूरी नहीँ हैं। घुटनो को भुजाओं पर टिकाएं। अब धीरे-धीरे आगे झुकें। अपना वज़न हाथों और कन्धों पर डालें। थोड़ा और आगे झुकने पर पेट की मासपेशियां भी वजन वहन कर खीचने लगेगी। इस दौरान भुजाएं मुड़ी रहेंगी।  अपने संतुलन को समायोजित करते हुए 5 – 10 श्वास चक्रों तक इस आसन में स्थिर रहें।

 

बकासन

मलासन में बैठिये। पैरों को कुछ दूरी पर रखें। हांथों को ज़मीं पर रखें ,पंजो और उँगलियों को फैलाएं। घुटनो को भुजाओं के पीछे जितना हो सके उतना ऊपर संभवतः कांखों तक लेकर जाएं। अब फिर से धीरे-धीरे आगे की तरफ झुकते हुए अपना वजन हाथो, कंठों और फिर पेट की माशपेशियों पर डालें और कूल्हों को ऊपर उठाएं। इस अवस्था में 5 – 10 श्वास चक्रों तक स्थिर रहें।

 

इन सभी आसनो में एक बिंदु पर दृष्टि और श्वासों पर ध्यान रखने से संतुलन बनाना आसान होता हैं। इस आसनमाला का अभ्यास पैरो ,भुजाओं और पेट की मासपेशियों को मजबूत बनाता हैं। साथ ही रीढ़ की हड्डी और महत्वपूर्ण अंगों को सेहतमंद बनाये रखता हैं।

 

तो देर किस बात की ? गहरी सांस लें, अपने डर को पीछे छोडें और इस खूबसूरत आसन में डूब जाएं।