करेंगे जीरे का सेवन तो होंगे यह 10 फायदे

1254
Benefits-of-Jeera-eating
image credit: kblog.s3-ap-southeast-1.amazonaws.com

जीरा तो हम सभी बहुत अच्छे से जानते हैं। सभी के घरो मे जीरा का प्रयोग मसाले के रूप मे किया जाता हैं। जीरा दो प्रकार का होता हैं सफ़ेद और श्याम। जीरे की खेती समस्त भारत, विशेषकर उत्तर प्रदेश, राजस्थान और पंजाब मे की जाती हैं। श्याम जीरा कश्मीर, अफगानिस्तान, बलुचिस्तान मे बहुत पाया जाता हैं।

 

यदि हम जीरा एक सिमित मात्रा मे सेवन करे तो हमारे शारीर की कुछ बीमारियों मे यह बहुत लाभकारी हैं। इसमें कई प्रकार के पोषक तत्व पाए जाते हैं जोकि शारीर के लिए बहुत लाभकारी हैं जैसे – कैल्शियम , पोटेशियम , मैग्नीशियम इसके अलावा जिंक और विटामिन c और a भी पाए जाते हैं। इसमें एंटी ओक्सिडेंट और एंटी इन्फ्लामिट्री गुण भी भरपूर मात्रा मे पाए जाते हैं।

 

जीरे के गुण / फायदे

1. गर्भावस्था मे वमन की परेशानी को दूर करने के लिए 2 ग्राम जीरे के साथ नीबू का रस दे इससे आराम मिलेगा।

2. मेथी, अजवाइन, जीरा और सोफ़ 50-50 ग्राम और स्वादानुसार काला नमक मिला कर पिस ले। एक चम्मच रोज सुबह सेवन करे। इससे शुगर, जोड़ो का दर्द और पेट के विकारो से आराम मिलेगा।

3. जीरे मे मौजूद विटामिन ई चेहरे की त्वचा मे कसाव लता हैं। हफ्ते मे जब भी फेस पैक लगाये उसमे चुटकी भर जीरे का पाउडर मिला ले इससे झुर्रिया भी नहीं पड़ती हैं।

4. दो चम्मच जीरा एक गिलास पानी मे भिगो कर रात भर के लिए रख दे। सुबह इसे उबाल कर गरम –गरम चाय की तरह पिए। बचा हुआ जीरा भी खाले। इसके रोजाना सेवन से शारीर के किसी भी कोने से अनावश्यक चर्बी शारीर से बाहर निकल जाती हैं।
5. इसमें एंटीसेप्टिक तत्व पाए जाते हैं। सीने मे जमे हुए कफ को बाहर निकलने के लिए जीरे को पिस कर फाक ले ! यह सर्दी – जुकाम से भी राहत दिलाता हैं।

6. जीरे को सेक कर उसका पाउडर बनाले फिर उसे निम्बू की शिकंजी मे डालकर पिए दिन मे 1-2 बार इससे हाथो व पैरो के पग्तलि मे जो पसीना आता हैं इसके सेवन से धीरे धीरे परेशानी ख़तम हो जाती हैं।

7. जीरे के नियमित सेवन से रोगप्रतिरोधक क्षमता बदती हैं।

8. काले जीरे के क्वाथ से कुल्ले करने से दांतों का दर्द मिटता हैं।

9. काले जीरे को जलाकर उसका धुआ सूघने से जुकाम रोग मिटता हैं।

10. 5 ग्राम जीरा चूर्ण तथा मिश्री चूर्ण 10 ग्राम दोनों मिला के चावल के पानी से साथ दोनों समय लेने से श्वेत प्रदर व रक्त प्रदर मे आराम मिलता हैं।