आहार जिन्हें आप हानिकारक मानते हैं, पर देते हैं कई स्वास्थ्य लाभ

407
healthy-good-food-with-bad-reputation
image credits: Yahoo

जिन आहारों को हम बचपन से खाते आ रहे हैं आज हम उन्हीं के कई दुष्प्रभाव के बारे में शोधों या अख़बारों में पढ़ते हैं। हाल ही में ऐसा एक शोध सामने आया जिसमें दूध पीने के दुष्प्रभावों पर बात की गयी। ध्यान देने वाली बात यह है की ऐसे शोध के नतीजे हम तक तब ही पहुँचते हैं जब कोई कंपनी इससे जुड़े उत्पाद बाज़ार में बेचने का मन बनाती है। दूध के इस किस्से में भी कुछ कंपनियां इस शोध के ज़रिये कृत्रिम दूध का विज्ञापन कर रही हैं।

इस सब के बीच हमें एक समझदार ग्राहक बनने की ज़रूरत है। हमें यह जानने की ज़रूरत है की प्रकृति में मौजूद ज्यादातर आहार सीमित मात्रा में हमारे लिए हितकर ही हैं लेकिन किसी भी आहार का ज़रूरत से ज्यादा सेवन कई नुकसान दे सकता है।

 

आइये जानते हैं कुछ ऐसे आहारों के बारे में जो लाभकारी होते हुए भी बदनाम है-

 

आलू 

वज़न बढने की चिंता करने वालों के बीच आलू की छवि अच्छी नहीं है। शोधकर्ता मानते हैं की आलू खाने से आपको टाइप 2 डायबिटीज और मोटापे का खतरा बढ़ जाता है। पर आपको इस सम्बन्ध में यह भी जानना ज़रूरी है की अगर आलू को छिलके के साथ खाया जाए तो आपको भरपूर फाइबर मिल सकता है जिससे मोटापे और मधुमेह से आप बच सकते हैं। तो अगली बार जब आप आलू के व्यंजन बनाए तो इसके छिलके न हटाएं, न ही इसे बहुत मसालेदार बनाएं। इस तरह आप बिना दुष्प्रभाव के भरपूर पोषण पा सकेंगे।

 

केले 

केलों को कार्ब्स से भरपूर माना जाता है इसलिए लोग मानते हैं की बहुत ज्यादा केले खाने से आपका वजन बढ़ सकता है। पर ऐसा नहीं है, केले में भरपूर पोटैशियम और फाइबर होता है तथा यह पोषण का बेहतरीन स्रोत है। हाल में हुए कई शोध दिखाते हैं की इन गुणों के कारण रोजाना एक केला खाने की आदत आपका वजन नियंत्रित रख सकती है।

 

बटर 

भारतीय व्यंजनों में घी या बटर डालना इनके स्वाद को कई गुना बढ़ा देता है। हम सभी परांठों से लेकर खिचड़ी तक घी और बटर के साथ पसंद करते हैं। पूर्व में कई शोधों के कारण इन दोनों को ही वजन बढाने वाला माना जाता है जिससे आपकी सेहत पर नकरात्मक प्रभाव पड़ सकता है। पर समय के साथ घी और बटर की प्रतिष्ठा पर लगा यह दाग फीका पड़ रहा है। अगर आप इन्हें सीमित मात्रा में लेते हैं तो ये आपके शरीर के अंदरूनी हिस्सों में खाने के प्रवाह को सुचारू कर पाचन में मदद करते हैं। इस तरह आप बटर और घी युक्त आहार खा सकते हैं लेकिन साथ में भरपूर व्यायाम करना भी आपकी ज़िम्मेदारी होती है।

 

चावल 

भारत के आधे से ज्यादा घरों में एक समय भोजन में चावल ही परोसे जाते हैं। अब धीरे-धीरे लोग बिमारियों के डर से चावल के विकल्प ढूंढने की कोशिश में हैं। यह बात सही है की अगर आपको मधुमेह है या आपको इसके होने की आशंका है तो आपको चावल की मात्रा कम कर देनी चाहिए। पर अगर आप स्वस्थ हैं और शारीरिक रूप से सक्रीय रहते हैं तो चावल आपकी मांसपेशियों के निर्माण तथा थकान से उबरने में आपकी बड़ी मदद कर सकता है।

 

पनीर 

पनीर व् चीज़ को कई बिमारियों की जड़ माना जाता है। इसमें बेशक भरपूर मात्रा में कैलोरीज होती है लेकिन इसके इन्हीं गुणों के कारण पनीर खाकर आप ख़ुशी महसूस करते हैं। इतना ही नहीं, पनीर आपको प्रोटीन और कैल्शियम दे सकता है तथा आँतों में मौजूद हितकर बैक्टीरिया के विकास में मदद कर सकता है।