शीर्षासना योग – जो दिलाए शरीर के ऊपरी भाग के रोगों से मुक्ति

1746

सिरासना योग को Headstand Pose Yoga भी कहा जाता है। इस योग को नियमित करने से शरीर के ऊपरी भाग में रक्त संचार बेहतर बनता है, जिससे शरीर के ऊपरी भाग में होने वाली ज्यादातर समस्याओं से मुक्ति पायी जा सकती है। सिरासना योग शुरुआत में थोड़ा मुश्किल होने के कारण किसी योग गुरु की निगरानी में ही करना चाहिए।

sirsasana-in-hindi
image credits: flickr.com

सिरासना योग के लाभ (Benefits of Sirasana/ HeadStand Yoga) –

1. मस्तिष्क में बल्ड सर्कुलेशन बेहतर बनाता है, जिससे मस्तिष्क ऑक्सीजनेटड रहता है, और इसकी कार्यक्षमता में बढ़ोतरी होती है।

2. माइग्रेन और सिरदर्द जैसी आम समस्या से छुटकारा मिलता है।

3. चिंता से मुक्ति मिलती है, किसी भी समस्या के सामने दिमाग दृढ़ बनता है।

4. शरीर के ऊपरी भाग में रक्त संचार बढ़ने से शरीर के ऊपरी भाग की आम समस्याओं से छुटकारा पाने में सहायता मिलती है जैसे कि बालों के झड़ने की समस्या, हायपोथायरोइडिज़म, आंखों की दृष्टि कमजोर होना इत्यादि।

5. श्वास संबंधी परेशानियों से मुक्ति मिलती है, क्योंकि सिरासन के दौरान श्वास धीमी हो जाती है, जिससे ऑक्सीजन को रक्त में घुलने का पूरा मौका मिलता है।

सिरासना योग की विधि (How to do Sirasana/Head Stand Yoga)–

1. वज्रासना में बैठकर अपने दोनों हाथों की उंगलियों को आपस में लॉक करके आगे की तरफ घुटनों के बल झुकें।

2. कोहनियों के बल धीरे धीरे अपने शरीर का भार आगे की तरफ शिफ्ट करें।

3. अब अपने कुल्हों को ऊपर की तरफ उठाते हुए, पैरों को इस प्रकरा सीधा करें कि जमीन पर बस आपके दोनों पैरों का अंगूठा ही छू रहा हो।

4. अब धीरे-धीरे दोनों पैरों को हवा में ऊपर उठाएं और सीधा करके हाथों से बॉडी को बैलेंस करने की कोशिश करें।

5. इस अवस्था में 10-15 सेकण्ड रुकें।

शुरुआत में इस योग को अकेले कर पाना थोड़ा मुश्किल है। हो सके तो किसी योग गुरु की मदद से ही इसे करें, नहीं तो घर में ही मौजूद किसी व्यक्ति या दोस्त की मदद से इसे करें।

वीडियो देखें –