बच्चों में पेट दर्द के कारण जानिए और करिए घरेलु उपचार

46794
stomach-ache-in-kids
image credits: wholeparent.com

पेट दर्द होना यूँ तो एक अतिशय ही आम समस्या है और अलग अलग कारणों से होता है। यदि यह पेट दर्द बच्चों (Stomach ache in Kids) को होता है, तो यह पेटदर्द उनके माता पिता के लिए एक चिंता का विषय बन जाता है। बच्चों में तथा नवजात शिशुओं में जब यह पेटदर्द पाया जाता है, तो माता पिता को उस दर्द का कारण समझ में नहीं आता। कभी कभी बच्चों में पेटदर्द अचानक से बहुत बढ जाता है तथा असहनीय होने लगता है। कई बच्चों में यह पेटदर्द कुछ घंटों में ही ठीक होने लगता है, पर यदि यह पेटदर्द 24 घंटों से ज्यादा समय तक के लिए रहता है, तो आपको अवश्य ही अपने चिकित्सक के पास जाकर जाँच करवा कर उसकी सलाह लेनी चाहिए। बच्चों में पेटदर्द का मुख्य कारण पेट में गैस होना माना जाता है। परंतु इसके अलावा भी कई और कारण हैं, जिनकी वजह से बच्चों को पेटदर्द होता है। आइये हम उन विभिन्न कारणों के बारे में जानने की कोशिश करते हैं। Keywords: stomach pain in hindi, pet ki bimari, pet me dard, pet ke dard ki dawa, pet ke rog, pet me kide, pet ke kide ki dawa

1) पेट में गैस होना – यह तो एक अति ही साधारण समस्या है, जो हर एक बच्चे को होती है। यदि माँ के खाने में ऐसा कोई खाद्यपदार्थ आ गया है, जिसकी वजह से नवजात शिशु को पेट में गैस हो सकती है तथा पेटदर्द होने लगता है।

2) कुछ नवजात शिशुओं में घंटों तक लगातार रोते ही रहते है। अत्याधिक रोने की वजह से अधिक मात्रा में हवा को निगलने के कारण भी उनको पेटदर्द हो सकता है।

3) थोडी बडी उम्र के बच्चे, जो बोल पाते है, वे बडी आसानी से अपने पेटदर्द होने की शिकायत कर पाते हैं। ऐसे बच्चों को पेटदर्द होने पर माता पिता को उनकी तकलीफ समझने में आसानी होती है, कई बार आंतों में संक्रमण पाये जाने की वजह से भी पेटदर्द होने लगता है, जिसकी वजह से बच्चों को उलटियाँ, डायरिया तथा बुखार होने जैसी स्वास्थ्य समस्याएँ होने लगती है।

यह भी पढ़ें – बच्चों में पेट के कीड़ों से कैसे निपटें

4) कई बार बच्चे बाहर का कुछ खादयपदार्थ खा लेते हैं। उस समय तो वह खाना बडा स्वादिष्ट लगता है, किंतु कई बार वह खाना विषाक्त भी होने लगता है, तथा उनमें विभिन्न प्रकार के कीटाणुओं का निर्माण होने लगता है, जिसके कारण वह खाना खाने के कुछ ही समय पश्चात् बच्चों को पेटदर्द की शिकायत होने लगती है।

5) यह जरूरी नहीं की सिर्फ बडों को ही एसीडीटी की समस्या होती है। आजकल बच्चों को भी एसीडीटी होती है। कई बार कुछ खादयपदार्थ जैसे टॉमेटो सॉस, वसायुक्त पदार्थ तथा खट्टे फल अथवा खट्टे फलों का रस इत्यादि चीजों से एसीडीटी होने लगता है तथा पेटदर्द की शिकायत होती है।

6) कब्ज – यह कभी कभी अधिकतर जीर्ण पेटदर्द का एक मुख्य रुप से कारण हो सकता है। अचानक से आपके बच्चे को कब्ज की शिकायत हो सकती है, जिसकी वजह से वह अपने आपको बहुत ही असुविधा जनक स्थिती में पाता है, तथा जिसकी वजह से अत्यंत ही गंभीर रूप से पेटदर्द होने लगता है।

तो यह हैं, कुछ संभावित कारण जिनके कारण आपके बच्चों को पेटदर्द होने की समस्या हो सकती है। लेकिन इस पेटदर्द की समस्या को आप बडी सरलता से कुछ आसान घरेलू उपायों को अपनाकर दूर कर सकते हैं। आइये उन उपायों को देखते हैं।

यह भी पढ़ें – बच्चों में भूख की कमी से कैसे निपटें

1) यदि गैस की समस्या के कारण शिशु के पेट में दर्द है, तो इस बात की जाँच अवश्य ही अपने चिकित्सक की सलाह लेकर करें।

2) अगर बच्चा बहुत रो रहा है, तो उसे डकार दिलवाएं तथा उसके पीठ पर हल्के हल्के थपथपाएं। उसके पेट के निचले भाग पर हल्के हाथों से मालिश करें। ऐसा करने से गैस निकल जाएगी।

3) गरम पानी से पेटदर्द कम होने लगता है। अपने बच्चे को टब में गुनगुना पानी भरकर उस पानी में 5 से 7 मिनट तक बिठायें। बच्चों की त्वचा बहुत ही संवेदनशील होती है। आप उसके पेट पर गरम पानी की बोतल से सेक भी सकते हैं। लेकिन इस बात का ध्यान अवश्य ही रखें कि, बोतल ज्यादा गरम न हो।

4) बच्चों में पेटदर्द पाए जाने पर उन्हें ग्राइप वॉटर भी दिया जा सकता है।

5) थोडी थोडी देर में बच्चे को गुनगुना पानी पिलाते रहिए। ऐसा करने से पेटदर्द से राहत मिलने लगती है।

6) पेट दर्द होनेपर बच्चों को दही खिलाना काफी लाभदायक होता है। यह बच्चों का शारीरिक संतुलन बनाए रखता है, तथा शरीर को आवश्यक पोषक तत्व भी प्रदान करता है।

7) आधा कप गुनगुने पानी में एक चम्मच शहद डालकर बच्चों को यह पानी पिलाने से भी पेटदर्द कम होने लगता है।

यह भी पढ़ें – किस तरह करें बच्चों में कब्ज़ का इलाज