मॉनसून के सीजन में होेने वाले सर्दी-जुख़ाम से निपटने के लिए कुछ असरदार घरेलु नुस्खे

1270
monsoon-cough-cold-flu
image credits: www.skymetweather.com

मॉनसून का समय है। थोड़ा-सा भी भीग गए और फिर ए.सी. की हवा में बैठ गए तो मान लीजिए सर्दी-जुखाम पक्का। हम आपको बताने जा रहें हैं कुछ ऐसे घरेलु नुस्खे जो आपको मॉनसून के सीजन में भी सर्दी-जुखाम से डाउन नहीं होने देंगें। न ही वायरल से बचने के लिए आपको कोई एंटी-बायोटिक की जरूरत पड़ेगी।

1. शहद और अदरक का रस एक-एक चम्मच मिलाकर सुबह-शाम पीने से ज़ुखाम ठीक हो जाता है।

2. पान के दो-चार पत्ते चबा लेने से सर्दी-ज़ुकाम से आराम मिलता है।

3. हल्दी और दूध गर्म कर उसमें गुड़ मिलाकर पीने से ज़ुखाम, कफ़ और शरीर के दर्द से राहत मिलती है।

इसे भी पढ़ें – मॉनसून में बढ़ते फ्लू से बचने के लिए रखें अपनी डॉयट का ख्याल

4. अजवायन को पीसकर उसमें प्याज़ का रस मिलाकर शरीर पर मलने से ज़ुकाम में पसीना आता है, जिससे शरीर में स्फूर्ति आती है और ज़ुकाम से आराम मिलता है। सुबह-शाम अजवायन की फंकी लेने से भी फ़ायदा होता है।

5. सोंठ के चूर्ण में गुड़ और थोड़ा-सा घी डालकर उसके 30-40 ग्राम के लड्डू बनाए। यह लड्डू सुबह-शाम खाने से ज़ुकाम दूर हो जाता है।

6. काली मिर्च का चूर्ण दही और गुड़ के साथ रोज़ सुबह-शाम खाने से लंबे समय तक ज़ुकाम से बचा जा सकता है। गर्म दूध में काली मिर्च का चूर्ण डालकर पीने से भी ज़ुकाम और खांसी दूर होती है।

7. हर रोज़ थोड़ी खजूर खाने के बाद 4-5 घूंट गर्म पानी पीने से कफ़ पतला होकर बाहर निकलता है, फेफड़े साफ़ होते हैं।

इसे भी पढ़ें – बारिश के मौसम में बचाएं अपने खूबसूरत पैरों को

8. गुनगुने पानी में 4-5 चम्मच नमक मिलाकर उसमें पैर रख कर कुछ देर बैठें। ऐसा करते समय तौलिए से ढमक कर रखें। इसे प्रयोग करने से 4-5 दिन में आराम मिलेगा।

9. सेंधा नमक और 3-4 काली मिर्च पीस कर गुनगुने पानी के साथ फांकें।

10. हींग का घोल बनाकर बार-बार सूंघने से नाक में जमी बलग़म बहने लगेगी और कुछ ही दिनों में रोगी पूर्ण स्वस्थ हो जाएगा।

11. गुड़ की एक छोटी-सी डली के बीच ज़रा-सी पिसी हुई हींग और 2-4 काली मिर्च डालकर गोली बना लें। इस गोली का सुबह-शाम सेवन करें।

12. रात को सोते समय दोनों कानों में राई के हल्के गरम तेल की 2-3 बूंद डालकर रूई का फाहा डाल दें।

13. राई के तेल में 2-3 लौंग पीस कर इसे गर्म कर छाती पर मलें। छाती में जमा सारा बलग़म पक जाएगा और राहत मिलेगी।