मूल बंध योगासना

653
Maha-Bandha
image credits: Custom Pilates and Yoga

योग में सुझाई गयी बंधों की श्रंखला प्राणायाम के प्रभाव को बढाने के लिए है। (moola bandha yoga benefits poses in hindi ) इसी श्रंखला में एक कड़ी है मूल बंध, जो श्वास छोड़ते हुए लगाया जाता है। इस मुद्रा में मलद्वार से लेकर नाभि के हिस्से को सिकोड़ा जाता है तथा रीढ़ की ओर उठाया जाता है।

ज़ाहिर है, इसके अभ्यास के लिए आपको अपने शरीर के सभी अंगों का ज्ञान और नियन्त्रण की ज़रूरत पड़ेगी। इसलिए अन्य बंधों की तरह मूल बंध को भी किसी गुरु के मार्गदर्शन में ही करने की सलाह दी जाती है। आज हम मूल बंध के ही एक आसान रूप की क्रिया इस लेख से जानेंगे-

 

  1. अपना ध्यान उन तीन हड्डियों पर लेकर जाएं जो आपके पेडुभाग के मूल में है। ये तीन हड्डियाँ आपकी रीढ़ के मूल तथा दोनों जांघों की हड्डियाँ है। कोशिश करें की कमर की हड्डी को जहाँ सीधा और लम्बा किया जाए वहीं दोनों जांघों को ज़मीन पर टिकाया जाए जिससे ये दोनों हड्डियाँ और भी पास आ जाएँ। ऐसा करने के लिए आप हाथों का उपयोग भी कर सकते हैं।

 

  1. इस तरह आपके पेट का निचला भाग जहाँ कडक हो जाएगा वहीं बाकि का धड़ सीधा हो जाएगा। ये मूल बंध की क्रिया है।

 

  1. इस क्रिया को आप इस तरह कर सकते हैं- गहरी सांस अंदर लें। अब सांस रोकते हुए मूल बंध लगाएं तथा जितनी देर हो सके, रोकें। फिर बंध खोलकर सांस छोड़ें। इस क्रिया को पांच बार दोहराएं। ध्यान रखें की ये क्रिया स्वतः ही की जाए, किसी भाग पर दबाव बनाकर या कडक कर इस क्रिया का अभ्यास बिल्कुल न करें।

 

मूल बंध का ये वैकल्पिक रूप भी आपको समान लाभ देगा। अगर आपको कमर में किसी तरह की चोट है या अभ्यास में किसी तरह की असहजता महसूस होती है तो इस मुद्रा का अभ्यास तत्काल बंद कर दें। किसी योग प्रशिक्षक में मार्गदर्शन में आप मूल बंध के सभी फायदे आसानी से पा सकते हैं।

benefits of mool bandh

मूल बंध आपकी पेल्विक मांसपेशियों पर आपके नियन्त्रण को बढाता है। इसके अभ्यास से आपको कई रोचक फायदे अनुभव हो सकते हैं –


·         मूल बंध का अभ्यास आपके पेल्विस या पेडूभाग की ओर आपकी चेतना बढ़ाता है जिससे आपके पेल्विस में संतुलन बढ़ता है तथा रीढ़ की हड्डी की हलचल आसान और सुरक्षित हो जाती है। इससे आपके जननांग की ओर रक्त प्रवाह भी बढ़ता है तथा अंदरूनी अंगों में मज़बूती आती है ।
·         महिलाओं के लिए ये बंध किसी केगेल एक्सरसाइज की तरह है- इसके अभ्यास से जननांग में कसावट आती है तथा अंदरूनी अंगों को सेहतमंद रखा जा सकता है। ज़ाहिर है, मूल बंध आपकी सेक्स लाइफ को कई गुना बेहतर कर सकता है ।
·         पुरुषों में मूल बंध से पेल्विस को ताकत मिलती है। इस आसन का अभ्यास कर आप शीघ्रपतन की समस्या से तो छुटकारा पा ही सकते हैं साथ ही संभोग की अवधि भी बढ़ा सकते हैं ।