5 नेचुरल एंटीबायोटिक्स जो करें बैक्टीरिया इंफेक्‍शन आसानी से दूर

786
food-home-tips-increase-immunity-
image credit: healthyfitnatural.com

लोग अक्सर छोटी-मोटी समस्याओं के लिए एंटीबायोटिक्स का सेवन करते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं इनके नुकसान बहुत हैं। आमतौर पर बैक्टीरिया इंफेक्‍शन दूर करने के लिए एंटीबायोटिक्स का इस्तेमाल किया जाता है। अगर एंटीबायोटिक्स सही से काम करती हैं तो वो आसानी से बैक्टीरिया को या तो मार देती हैं या फिर बैक्टीरिया को बढ़ने से रोक देती है।

लेकिन अगर एंटीबायोटिक्स का लगातार इस्तेमाल कई तरह के हेल्थ कॉम्प्लीकेशन का कारण बन सकता है. इसलिए बेहतर होगा कि नेचुरल एंटीबायोटिक्स का इस्तेमाल किया जाए।

 

हल्दी
हल्दी में कई तरह से हमारे शरीर के लिए लाभकारी होती है। हल्दी में बैक्टीरिया को मारने की क्षमता होती है। इसी कारण इसे हर रोग में लाभप्रद समझा जाता है। इसके अलावा यह हमारे शरीर को सुचारू रूप से चलाने में भी सक्षम होता है। इसे चोट आदि में लगाने से घाव जल्द ही भर जाता है।

 

लौंग
नेचुरल पेनकिलर की ख़ूबियों से भरपूर लौंग में एंटीबायोटिक, एंटी-सेप्टिक, एंटी-माइक्रोबियल, एंटी-फंगल और एंटी-वायरल जैसे कई गुण होते हैं। यह घर का ऐसा वैद्य है, जो दांत के दर्द, सिरदर्द, अस्थमा, पाचन संबंधी समस्याओं और रक्त में मौजूद अशुद्धियों को दूर करता है।

यह बहुत तेज़ होता है, इसलिए सेंसिटिव स्किनवालों को इसे इस्तेमाल करने की सलाह नहीं दी जाती।

 

अदरक
एक बेहतरीन पेनकिलर होने के साथ-साथ यह ऐसा एंटीबायोटिक्स है। शरीर में पाचन संबंधी समस्याओं को दूर करता है। सांस संबंधी बीमारियों में भी काफ़ी कारगर है।

 

शहद
रिसर्च में यह बात साबित हो चुकी है कि शहद मुंह के छालों से डॉक्टर द्वारा प्रिस्क्राइब क्रीम के मुक़ाबले 43 प्रतिशत जल्दी राहत दिलाता है। इसके अलावा पेटदर्द, कटने, जलने आदि में बहुत कारगर सिद्ध होता है। आयुर्वेद में शहद को पुरुषों में होनेवाली इंफर्टिलिटी को दूर करने के लिए इस्तेमाल करने की सलाह दी जाती है। जिन पुरुषों का स्पर्म काउंट लो है, उन्हें रोज़ाना गुनगुने दूध में शहद मिलाकर पीने की सलाह दी जाती है।

 

नीम
नीम के गुणों के बारे में हम कई वर्षों से जानते है। चेहरे की कोई भी समस्या हो नीम का लेप ही चेहरे की हर समस्या को दूर करने में सक्षम है। नीम के पत्तों को उबालकर स्नान करने से त्वचा की समस्याए ठीक हो जाती है। इतना ही नहीं दांतों की समस्या होने पर भी नीम का ही प्रयोग किया जाता है इससे दांतो के दर्द में तुरंत लाभ मिलता हैं।