करेंगे नीम का इस तरह इस्तेमाल तो होंगे 10 लाभ

474
neem-health-benefits-in-hindi
image credits: roposo.com

आयुर्वेद में नीम का स्थान का एक महत्पूर्ण औषधीय पौधे के रूप में हैं जिसके हर हिस्से को 5000 सालों से उपचार के लिए उपयोग किया जा रहा है। यह एक वायरस विरोधी, बैक्टीरिया विरोधी तथा रोग प्रतिरोधक क्षमता बढाने वाली दवा है जिसे आप कई तरह से उपयोग कर सकते हैं।

नीम की पत्तियों का प्रयोग शरीर में वात दोष के संतुलन के लिए किया जाता है। साथ ही यह खून साफ़ करती है, शरीर को फ्री रेडिकल से होने वाली क्षति से बचाती है, कीटों के काटने पर उपचार करती है तथा त्वचा के कई रोगों को दूर करती है।

 

तो आइये, जानते हैं कैसे नीम आपको विभिन्न लाभ दे सकती है-

 

नीम की पत्तियों का उपयोग 

 

  1. चोट ठीक करे

नीम की पत्तियों को पीस कर इसका पेस्ट बना लें तथा इसे आपकी चोट या कीटों द्वारा कटी गयी जगह पर लगाएं। दिन में 2-3 बार यह उपाय करने से घाव जल्द ठीक हो जाएगा।

2. रुसी दूर करे

नीम की पत्तियों को पानी में तब तक उबालें जब तक पानी का रंग हर न हो जाए। अब इस पानी को शैम्पू से बाल धोने के बाद सिर में लगाएं, फिर पानी से धो लें।

3. आँखों की तकलीफ

नीम की कुछ पत्तियों को पानी में उबालें तथा पानी को पूरी तरह ठंडा कर लें। इस पानी से आँखें धोने से आँखों की थकान और खुजली दूर होगी।

4. फोड़े को ठीक करे

कुछ नीम की पत्तियों को पीस कर पेस्ट बना लें। रोजाना इसे फोड़े या मुंहासे पर लगाएं। जल्द ही आप इनसे राहत पा जाएँगे।

5. कान की तकलीफ

नीम की कुछ पत्तियों को पीसें तथा इसमें शहद मिलाएं। इसकी कुछ बूँदें  ईयरड्राप की तरह कान में डालें। इससे कान में आई फुंसी खत्म होती है।

6. चर्म रोग दूर करे 

हल्दी और नीम की पत्तियों का पेस्ट बनाकर रोग ग्रस्त त्वचा पर लगाएं। इससे खुजली, एक्जिमा व् अन्य साधारण चर्म रोग दूर होंगे।

7. रोग प्रतिरोधक क्षमता बढाए

नीम की कुछ पत्तियों को पीसकर पानी में मिलाकर पीने से आप रोगों से बच पाएंगे।

 

8. नीम के फूल 

नीम के अन्य हिस्सों के मुकाबले इसके फूलों में कडवाहट नहीं होती तथा इनके उपयोग से कई लाभ पाए जा सकते हैं।

इसनकी मदद एनोरेक्सिया, जी मिचलाना व् पेट के कीड़ों की समस्या ठीक हो सकती है। आयुर्वेद के अनुसार नीम के फूल हमारी आँखों और त्वचा के लिए भी बहुत हितकारी हैं। इनका उपयोग अरोमा थेरपी में भी किया जाता है।

 

9. नीम की छाल 

भारत में नीम की छाल का उपयोग दांत साफ़ करने से लेकर काढ़े तक में किया जाता है। ये आपकी लार का पीएच संतुलित रखती है, कीटाणुओं से लडती है, सूजन दूर करती है तथा आपको सफ़ेद दांत देती है। इसके रेशे दांतों को प्लाक से भी मुक्त करते हैं।

 

10. नीम का तेल 

नीम के बीजों से निकाला गया नीम का तेल कई सौन्दर्य प्रसाधनों में उपयोग होता है। साबुन, तेल, हैण्ड वाश आदि सभी में नीम का तेल मिलाया जाता है जिससे त्वचा को रोगों से बचाया जा सके। नीम के तेल को आप कीटों से बचने के लिए शरीर पर लगा सकते हैं-बस इसे नारियल तेल में मिलाएं और अच्छी तरह खुली त्वचा पर मल लें।

यह भी पढ़ें –

गुग्गुल हर्ब का सेवन देता है सूजन, जोड़ों के दर्द व थायराईड जैसी समस्याओं से छुटकारा

एक प्राचीन काल से उपयोग होती औषधी – हरड़

असगंध की जड़ के चूर्ण के सेवन करने से शरीर को होने वाले 21 फायदे