नीम की दातुन करती है दांतों की नेचुरल केयर

609
neem-ki-datun
image credits: Samvadata

जब बाज़ार में टूथ ब्रश उपलब्ध नहीं थे, तो भारत में नीम की छाल के दातुन को दांतों को साफ़ करने के लिए उपयोग किया जाता था। आज भी कई ग्रामीण इलाकों में नीम की दातुन का उपयोग प्रचलित है। अब दांत साफ़ करने के इस तरीके को आप भले ही आदिम या असहज मानें लेकिन इसके लाभों को नज़रंदाज़ नहीं किया जा सकता।  शोधकर्ताओं और आयुर्वेद की मानें तो नीम के पेड़ के हर हिस्से में अदभुत औषधीय गुण हैं इसलिए इसकी दातुन भी आपको कई स्वास्थ्य लाभ दे सकती है। आइये जानते हैं दातुन करने के मुख्य लाभ-

 

दांत साफ़ करे

दांत साफ़ करने के लिए आपको नीम की छाल के कोनों को पहले चबाना होता है। धीरे-धीरे यह हिस्सा खुल कर किसी ब्रश की तरह हो जाता है जिससे दांत साफ़ किए जा सकते हैं। इस तरह नीम की छाल आपको औषधीय गुण तो देती ही है पर दांतों की सफाई में किसी टूथ ब्रश से कम नहीं पडती है।

नीम के इतने सारे गुण जान कर चौंक जाएंगे आप

यह कीटाणु रोधी है

नीम में कीटाणु के नाश का गुण होता है। यही वजह है की नीम के दातुन से दांतों में प्लाक की समस्या नहीं होती। साथ ही यह औषधि आपके मुँह में सडन पैदा करने वाले बैक्टीरिया को नष्ट करती है तथा साँसों में आने वाली बदबू से भी लडती है।

नीम के गुण जो आपको बना सकते हैं खूबसूरत

दांत सफ़ेद करे

नीम की छाल चबाने से आपके दांतों में भी चमक आ सकती है। रसायनों से बने टीथ व्हाइटनर जहाँ आपके शरीर पर विष जैसा प्रभाव डाल सकते हैं वहीं नीम को धीरे-धीरे चबाने से निकले चिकित्सीय गुणों से भरे घटक दांतों को प्राकृतिक रूप से साफ़ कर सफ़ेद करते हैं ताकि आपकी मुस्कान की खूबसूरती बनी रहे।

 

जीभ की सफाई 

एक दातुन को आप एक ही बार उपयोग कर सकते हैं। पर इससे दांत साफ़ करने के बाद इसे बीच से अगर दो हिस्सों में अलग कर लिया जाए तो इसे आप जीभ साफ़ करने के लिए भी उपयोग कर सकते हैं। इस तरह यह किसी भी टंग क्लीनर कम टूथ ब्रश की तरह काम कर सकता है।

 

अन्य लाभ 

नीम की दातुन चबाने से इसमें मौजूद औषधीय घटक बाहर निकलने लगते हैं जो आपके मुँह के हिस्सों तक पहुँच कर कीटाणुओं को खत्म कर मुँह को साफ़ करता है। नीम के घटकों के साथ जब लार मिलती है तो यह आपके मसूड़ों को सूजन और रोगों से मुक्त कर देती है। इसलिए हमेशा दातुन के दौरान आई लार को थूकना ज़रूरी होता है।

इन लाभों को जानकर हर व्यक्ति दातुन के महत्व को समझ चूका होगा। पर दातुन करते हुए कुछ सावधानियां बरतनी चाहिए- हमेशा दातुन को इस तरह उपयोग करें की इसके कठोर हिस्से आपके मसूड़ों को नुकसान न पहुचाएं। इसके बाद हमेशा दांतों में फसे रेशों को सावधानी से निकालें।

प्राकृतिक तरीकों से कैसे ठीक करें दांतों की सड़न

क्या आप भी परेशान हैं बेवजह मुंह से आने वाली दुर्गंध से