मानसून में पेट के स्वास्थ्य के लिए करें यह 4 बदलाव आहारशैली में

174
food to eat in monsoon
image credits: Beauty Tips

बारिश का मौसम बनते ही हमें कुछ लज़ीज़ और गर्मागर्म खाने का मन करने लगता है। चाय-पकोड़ा से लेकर समोसों तक हम सभी कोई न कोई व्यंजन खाने की इच्छा रखते हैं लेकिन इनके स्वास्थ्य पर असर को लेकर भी संशय में बने रहते हैं। मानसून में खाने के अन्य विकल्पों के सेहत पर असर और स्वाद को लेकर भी हमारा मन अक्सर उलझ जाता है। (barish ke mausam mein kya nahi khana chahiye)

Keywords: stomach pain in hindi, pet ki bimari, pet me dard, pet ke dard ki dawa, pet ke rog

पर आपको इतनी चिंता करने की कोई ज़रूरत नहीं है, जानिए विशेषज्ञ मानसून में किन आहारों को अपनाने की सलाह देते हैं तथा मन को संतुष्टि देने के कौनसे रास्ते सुझाते हैं-

 

  1. हरी पत्तेदार सब्जी की जगह बेलों पर लगने वाली सब्जियों को अपनाएं 

पालक, मेथी, अजमोद, केल आदि को इनके पोषण के लिए जाना जाता है। आपने अक्सर इन्हें भरपूर मात्रा में खाए जाने की सलाह सुनी होगी। पर इन पत्तेदार सब्जियों को मानसून के उमस और कीचड भरे मौसम में संक्रमण होने की आशंका रहती है। इनके सेवन से यह संक्रमण आप तक भी पहुँच सकता है। यही वजह है की मानसून में करेला, कद्दू, लौकी, टिंडा, तोरी आदि बेल पर उगने वाली सब्जियां खाने की सलाह दी जाती है।

 

2. प्रोसेस्ड आहारों से दूरी बनाएं 

अगर आप अब भी मैदे से बने व्यंजन, ब्रेड और बिस्कुट खाने के आदि हैं तो इन्हें छोड़ने का इससे अच्छा मौसम कोई और नहीं होगा। इस समय ऐसे अनाज का रुख करें जो पूरे साल उपलब्ध रहते हैं। इनमें चावल, जवार, नचनी और गेंहूँ शामिल है। नमकीन की जगह आप चना जोर गर्म या मक्के के पोहे को अपना स्नैक बना सकते हैं। इसी तरह मैदे के बिस्कुट की जगह पौष्टिक मठरी अपनाएं।

 

3. दालें 

मानसून से त्योहारों का मौसम भी चालू हो जाता है जिस वजह से कई लोग मीट और अण्डों को खाना छोड़ देते हैं। यह संक्रमण से बचने की दृष्टि से भी ज़रूरी है। इसलिए इन दिनों आपको भरोसेमंद दालों का सहारा लेना चाहिए। ये न सिर्फ आपको ज़रूरी प्रोटीन देंगी बल्कि कई विटामिन, खनिज और फाइबर की ज़रूरत भी पूरी करेंगी।

 

4. मौसम के खास व्यंजन 

अगर आपका मन पकोड़ा खाने का करे तो आप इनका लुत्फ़ ज़रूर लें, लेकिन इन्हें घर पर ही तैयार करें। पकोड़ों को डीप-फ्राई करने के लिए हमेशा अच्छे तेलों का ही उपयोग करें। फिल्टर्ड मूंगफली का तेल, सरसों का तेल व् नारियल का तेल ऐसी कई सेहतमंद वसा का स्रोत होते हैं जो आपके लिए ज़रूरी भी हैं तथा विटामिन D अवशोषण में बड़ी भूमिका भी निभाते हैं।

 

इन सुझावों को अपनाएं और बारिश में स्वादिष्ट आहार खाने की इच्छा को दबाने की जगह कुछ हितकर खाने का विकल्प चुनें। स्थानीय बाज़ार में मिलने वाले उत्पाद आपके लिए और भी अच्छे होंगे तथा आपके शहर के विकास में योगदान भी देंगे।

यह भी पढ़ें – 

  1. मानसून में इन सावधानियों को अपनाकर पाएं स्वस्थ जीवन
  2. मानसून में इन बीमारियों से रहें सावधान
  3. मानसून में ज़रूरी स्किनकेयर
  4. मॉनसून में न करें यह 7 गलतियां
  5. कैसे करें मॉनसून में बच्चों की देखभाल