जानिए वेट लॉस सर्जरी से जुडी ज़रूरी बातें

127
Tips-to-Avoid-Winter-Weight-Gain-MainPhoto
image credits: Mamiverse

मोटापा अपने साथ कई तरह की समस्याएँ लेकर आता है। यह सिर्फ आपकी निजी और सामाजिक ज़िन्दगी ही मुश्किल नहीं बनाता बल्कि उच्च रक्तचाप और मधुमेह जैसे रोगों का कारण भी बन सकता है। यही वजह है की वजन को नियंत्रित रखना बेहद ज़रूरी है। (which weight loss surgery has the best long term results, side effects hindi)

एक स्वस्थ जीवनशैली जहाँ आपको उचित वजन प्रबंधन दे सकती है वहीं कई बार शरीर को परेशानी से बचाने के लिए सर्जरी के अलावा कोई रास्ता बचता। लेकिन फिर भी वेट लोस एक बड़ा फैसला है जिसे आपको बिना सही जानकारी के नहीं लेना चाहिए।

 

वेट लॉस सर्जरी की ज़रूरत किसे है?

यह जानना बेहद ज़रूरी है की हर इंसान इस सर्जरी के लिए सही नहीं। अगर आप इससे जुड़े पैमानों पर खरे नहीं उतरते तो सर्जन के लिए मुश्किल हो सकती है तथा वे इस प्रक्रिया के लिए मना भी कर सकते हैं।

इस सर्जरी के लिए यह शर्तें होती हैं-

  • आपका BMI 40 से ज्यादा होना चाहिए।
  • आपको कोलेस्ट्रोल, ह्रदयरोग, मधुमेह आदि मोटापे से जुड़े रोग हैं।
  • वजन कम करने के अन्य तरीके आप पर प्रभावी नहीं है।

अगर इन शर्तों के अलावा आपका शरीर सर्जरी के लायक है तो चिकित्सक इस प्रक्रिया का सुझाव देंगे।

 

इस सर्जरी के कितने प्रकार हैं?

इस सर्जरी को बेरिआट्रिक सर्जरी भी कहा जाता है जिसकी मदद से मोटापे की वजह से हो रही स्वास्थ्य समस्याओं को कम किया जाता है। इसके ज़रिये आपके पेट की खाना जमा करने की शक्ति हो कम किया जाता है जिससे कैलोरिज़ का सेवन कम हो जाता है। कई बार छोटी आंत की लम्बाई कम कर भी यह काम किया जाता है।

 

इसके तीन प्रकार होते हैं-

 

Laparoscopic Adjustable Gastric Band

इस सर्जरी में आपके पेट के आसपास एक छोटा बैंड रखा जाता है ताकि पेट का आकार छोटा हो जाए। चिकित्सक इस बैंड के आकार को बदलकर आपके पेट का आकार भी बदल सकते हैं। इस तरह आप थोड़े ही खाने में संतुष्ट महसूस करने लगेंगे और जल्द ही आपका वजन कम हो जाएगा।

वजन कम करने के लीजिए यह आयुर्वेदिक दवाएं

Gastric Sleeve

इस सर्जरी में चिकित्सक आपके पेट के कुछ हिस्से को हटा देते हैं। इस तरह ही पेट में खाने को जमा रखने की क्षमता कम की जा सकती है ताकि थोड़े ही खाने में आप संतुष्ट महसूस करने लगें। यह सर्जरी गैस्ट्रिक बैंड की तरह अस्थाई नहीं होती तथा इससे आपकी पाचन क्रिया और होर्मोन्स पर प्रभाव पड़ सकता है।

 

Gastric Bypass Surgery

इस सर्जरी में सर्जन आपके पेट का एक हिस्सा हटाने के साथ ही छोटी आंत की लम्बाई भी कर देते हैं। इसके साथ ही आंत के नीचे एक छोटा थेला भी जोड़ा जाता है ताकि ज्यादातर भोजन इस थैले में जाए और आपका शरीर कम कैलोरिज़ सोखे। यह प्रक्रिया भी आपके होर्मोन्स पर प्रभाव डाल सकती है।

 

कुछ और जानने योग्य बातें-

 

आप सर्जरी के बाद अवसाद महसूस कर सकते हैं-

देखा जाता है की मोटापे से ग्रसित रोगियों में अवसाद की आशंका 25 प्रतिशत ज्यादा होती है। और अगर रोगी को सर्जरी के ज़रिये मानसिक परेशानियों से निजात दिलाने की कोशिश हो रही है तो आशंका है की अवसाद कुछ समय के लिए और भी बढ़ जाए।

देखा जाता है सर्जरी के बाद 13 प्रतिशत लोग अगले 6-12 महीनों में आत्मविश्वास की कमी और खाने को लेकर समस्याओं से जूझते हैं।

अगर आप भी अवसाद से पीड़ित हैं तो अपने चिकित्सक से इस बारे में चर्चा ज़रूर करें।

 

आपको अत्यधिक त्वचा की समस्या हो सकती है

सर्जरी के बाद वजन धीरे-धीरे कम होता है ताकि आपकी त्वचा भी इस बदलाव के साथ ढल सके। लेकिन कई बार लोग शरीर पर अत्यधिक त्वचा महसूस करते हैं जिसे ठीक करने के लिए एक और सर्जरी की ज़रूरत पड़ सकती है।

 

आपका हेल्थ इन्शुरन्स शायद काम न आए

ज्यादातर हेल्थ पॉलिसीस आपकी वेट लॉस सर्जरी को कवर नहीं करती। अगर आपका इन्शुरन्स इसे कवर करता है तो भी इससे जुडी शर्तों को बहुत ध्यान से पढ़ें ताकि आप किसी गलतफ़हमी में न रहें। इस सर्जरी की कीमित ज्यादा होती है इसलिए इन्शुरन्स कंपनी से इस बारे में चर्चा ज़रूर करें।

 

इसमें खतरा बहुत कम है

इस प्रक्रिया में आपको किसी तरह के खतरे से डरने की ज़रूरत नहीं है। इसमें हुई जटिलताएँ न ही घातक होती है न ही स्थाई; दरअसल 90 प्रतिशत रोगी किसी तरह की जटिलता महसूस नहीं करते। इतना ही नहीं, मोटापे के दुष्प्रभाव इस सर्जरी से कहीं ज्यादा होते हैं।

 

आपकी सभी समस्याएँ तुरंत हल नहीं होंगी

यह प्रक्रिया आपको शुरुआत में वजन कम करने में मदद करेगी लेकिन स्वस्थ रहने के लिए आपको पुरे जीवन पूरक आहार और व्यायाम का संकल्प लेना ही होगा। अब जब आप कम आहार का सेवन करेंगे तो आपको खाने को और भी पोषक बनाने की कोशिश भी करनी होगी।